बस्तर जिला पत्रकार संघ ने पत्रकारों को वारियर्स का दर्जा दिए जाने की रखी मांग

बस्तर जिला पत्रकार संघ ने पत्रकारों को वारियर्स का दर्जा दिए जाने की रखी मांग

जगदलपुर – बस्तर जिला पत्रकार संघ के द्वारा बस्तर संभाग सहित प्रदेश के तमाम पत्रकारों को कोरोना फ़्रंटलाइन   वारियर्स का दर्जा दिए जाने की मांग रखी है.इस संबंध में बस्तर जिला पत्रकार संघ ने सांसद दीपक बैज,विधायक जगदलपुर  रेखचंद जैन और चित्रकूट विधायक राजमन बेंजाम को पत्र प्रेषित कर मांग रखते हुए मुख्यमंत्री से इस संबंध में चर्चा कर पहल किए जाने की मांग रखी है.तीनों ही जनप्रतिनिधियों ने पत्रकार संघ को यह आश्वस्त किया है कि उनकी मांगों पर वे जरूर मुख्यमंत्री से चर्चा करेंगे और जल्द से जल्द पत्रकारों को फ्रंटलाइन वारियर्स का दर्जा दिलाएंगे,संसदीय सचिव और क्षेत्रीय विधायक रेखचंद जैन ने इस संबंध में मुख्यमंत्री भूपेश बघेल से चर्चा भी की मुख्यमंत्री ने पत्रकारों के मांगों को जायज ठहराते हुए जल्द से जल्द इस दिशा में निर्णय लेने की बात कही है.बस्तर जिला पत्रकार संघ  के अध्यक्ष एस.करीमुद्दीन और सचिव धर्मेंद्र महापात्र ने ने बताया कि विगत वर्ष की तरह इस वर्ष भी कोरोना के दस्तक ने जनजीवन अस्त व्यस्त कर दिया है.इस बीच पत्रकार साथी फ्रंट फुट पर आकर कोरोना संक्रमण से बचाव तथा रोकथाम के लिए अपने अखबारों और टीवी चैनलों में खबरों के माध्यम से प्रचार प्रसार में जुटे है और लगातार काम कर भी रहे हैं.मगर इस वैश्विक महामारी के बीच उन्हें भी कोविड-19 का खतरा बना रहता है बावजूद इसके अब तक पत्रकारों को फ्रंटलाइन वारियर्स नहीं माना गया है.अगर पत्रकारों को फ्रंटलाइन वारियर्स का दर्जा मिल जाए तो उन्हें भी कोरोना का  टीकाकरण प्राप्त हो सकता है.इसीलिए छत्तीसगढ़ सरकार को जल्द से जल्द इस दिशा में निर्णय लेते हुए पत्रकारों के मांगों पर विचार करना चाहिए,वही संघ के पदाधिकारियों ने कहां है कि कोविड-19 अस्पतालों  में कोरोना पीड़ित पत्रकारों के लिए कम से कम 10 बेड आरक्षित रखा जाए ताकि पीड़ित होने पर उनका बेहतर ढंग से उपचार हो सके साथ ही मृत पत्रकारों के परिजनों को शासन स्तर पर 25 लाख का मुआवजा मिलना चाहिये।

Baski Thakur

बस्तर प्रवक्ता समाचार पत्र के प्रधान संपादक हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *