किसान भाइयों के फायदे के लिए बिल पास यह बिल किसानों की आर्थिक स्थिति सुघार होगी

किसान भाइयों के फायदे के लिए बिल पास यह बिल किसानों की आर्थिक स्थिति सुघार होगी

यह बिल के आने के बाद किसानों की आत्महत्या पर रोक लगेगी

जगदलपुर– भारतीय जनता युवा मोर्चा के प्रदेश कार्यसमिति सदस्य संग्राम सिंह राणा ने कहा कि कृषि विधेयक बिल से किसानों को नई आजादी मिली है ,किसानों के फायदे के लिए यह बिल पास किया गया है,आज किसान अपनी शर्तों पर उपज बेच सकता है, अपनी क्षेत्र की मंडी के अलावा किसानों को और विकल्प मिले हैं,इस बिल से किसानों की आर्थिक स्थिति सुधरेगा ,पहले के नियम से किसानों के हाथ पाव बंधे हुए थे, विपक्षी दल कांग्रेस बिचौलियों के लिए खड़े हुए हैं, यह बदलाव कृषि मंडियो के खिलाफ नहीं है, एमएसपी की व्यवस्था पहले की तरह चलती रहेगी।
किसान बिल आने के बाद किसानों की आत्महत्या पर रोक लगेगी, साथ में यहां पर प्रशासन के द्वारा जो किसानों के खलियानो में छापा मारकर फसल जब्ती करते थे इस पर भी रोक लगेगी
किसान बिल आज पूरे भारत की जरूरत बन चुकी है, देश के यशस्वी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी ने कहा है कि कृषि मंडियों के कार्यालयों को ठीक करने के लिए वहां का कंप्यूटराइजेशन कराने के लिए, पिछले 5 से 6 साल से देश में बहुत बड़ा अभियान चल रहा है इसलिए जो यह कहता है कि नए कृषि सुधारों के बाद कृषि मंडिया समाप्त हो जाएगी तो वो किसानों से सरासर झूठ बोल रहा है।संग्राम सिंह राणा ने कहा कि कांग्रेस सिर्फ दिग्भ्रमित करने का काम कर रही है ,कृषि क्षेत्र में बदलाव पर चर्चा करते हुए मोदी जी ने कहा है कि संसद ने देश के किसानों को नए अधिकार देने वाले बहुत ही ऐतिहासिक कानूनो को पारित किया है। देश के लोगों को, देश के किसानों को, देश के उज्जवल भविष्य के आशावान लोगों को भी इसके लिए बहुत-बहुत बधाई मोदी जी ने दिए है,हमारे देश में अब तक उपज बिक्री की जो व्यवस्था चली आ रही थी ,जो कानून थे, उसने किसानों के हाथ-पांव बांधे हुए थे। इन कानूनों की आड़ में देश में ऐसे ताकतवर गिरोह पैदा हो गए थे, जो किसानों की मजबूरी का फायदा उठा रहे थे, आखिर ये कब तक चलता रहता, एमएसपी को लेकर विपक्षी कांग्रेस के लोग इसको लेकर गुमराह कर रहे है, सरकारी खरीद पहले की तरह जारी रहेगी

Baski Thakur

बस्तर प्रवक्ता समाचार पत्र के प्रधान संपादक हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *