गायत्री की मौत के मामले में एफआईआर दर्ज ना होने पर यह मामला एक बार फिर गरमाने लगा है

 

गायत्री की मौत के मामले में एफआईआर दर्ज ना होने पर यह मामला एक बार फिर गरमाने लगा है

जगदलपुर लोहंडीगुड़ा ब्लॉक की गढ़िया की युवती की मौत के मामले में एफआईआर दर्ज ना होने पर यह मामला एक बार फिर गरमाने लगा है दरअसल बीते दिसंबर माह में गढ़िया की युवती की मौत एमपीएम अस्पताल की लापरवाही की वजह से हो गई थी परिजनों ने मामले की शिकायत कलेक्टर से की थी जिस पर डिप्टी कलेक्टर को जांच का जिम्मा सौंपा गया है

देर शाम वहीं डिप्टी कलेक्टर ने आदेश जारी करते हैं बोधघाट थाने को एफ आई आर की कॉपी प्रस्तुत करने का आदेश दिया है थाने में की गई शिकायत पर फिलहाल कोई कार्यवाही नहीं की गई है जिस पर नाराज परिजनों एवं बस्तर मुक्ति मोर्चा के पदाधिकारियों ने मामले को लेकर ढिलाई बरतने का आरोप लगाया है, बस्तर मुक्ति मोर्चा के अध्यक्ष नवनीत चांद ने मांग की है कि बोधघाट थाने में एमपीएम अस्पताल के प्रबंधन के खिलाफ हत्या का मामला दर्ज किया जाए युवती के परिजनों को मुआवजे के रूप में 50 लाख रुपए व परिवार के एक सदस्य को नौकरी भी दी जाए, वहीं मृतिका के परिजन न्याय की आस में जगदलपुर के चक्कर लगा रहे हैं सोमवार को परिजनों ने डिप्टी कलेक्टर के समक्ष अपना बयान दर्ज करवाया है मृतिका गायत्री सेठी के पिता ने कहा है कि उन्हें न्याय मिलना चाहिए व कठोरतम कार्यवाही अस्पताल प्रबंधन के खिलाफ होनी चाहिए जिससे किसी अन्य युवती को कुप्रबंधन के चलते जान ना गंवानी पड़े

 

 

Baski Thakur

बस्तर प्रवक्ता समाचार पत्र के प्रधान संपादक हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *