धान खरीदी में किसी प्रकार की लापरवाही बर्दास्त नहीं बंसल

 

जिले में लगभग 50 प्रतिशत धान की हुई खरीदी

धान खरीदी में किसी प्रकार की लापरवाही बर्दास्त नहीं  बंसल

धान खरीदी व्यवस्था का कलेक्टर ने की समीक्षा

जगदलपुर / कलेक्टर रजत बंसल द्वारा धान खरीदी, बारदाना की व्यवस्था और धान उठाव की समीक्षा जिला कार्यालय के आस्था सभाकक्ष में की गई। कलेक्टर बंसल ने कहा कि अब तक जिले में निर्धारित धान खरीदी लक्ष्य के विरूद्ध में लगभग 50 प्रतिशत धान खरीदी कर लिया गया। इसके साथ ही उन्होंने संबंधित अधिकारियों को सक्त निर्देश दिए कि धान खरीदी में किसी प्रकार की लापरवाही बर्दास्त नहीं की जाएगी। लापरवाही बरतने वाले के खिलाफ अनुशासनात्मक कार्यवाही किया जाएगा। उन्होंने सभी एसडीएम को मंडियों का भौतिक सत्यापन करते हुए कोचियों पर आवश्यक कार्यवाही करने को कहा। बैठक में अपर कलेक्टर अरविंद एक्का, सर्व अनुविभागीय अधिकारी राजस्व जी.आर. मरकाम, गोकुल रावटे, प्रवीण वर्मा, नरेन्द्र पैकरा, खाद्य नियंत्रक अजय यादव, सीईओ सहकारी बैंक राऊस खान, सहायक खाद्य अधिकारी, फुड इंस्पेक्टर सहित धान खरीदी से संबंधित अधिकारी उपस्थित थे।

कलेक्टर बंसल ने निर्देश दिए कि कोई भी किसान धान खरीदी केंद्र से बिना धान की बिक्री किए वापस नहीं जाना चाहिए, इसका विशेष ध्यान रखा जाए। धान खरीदी केंद्रों में बारदाना की व्यवस्था प्रतिदिन धान खरीदी करने से पहले निर्धारित मात्रा में उपलब्ध कराया जाए और यह रोटेशन प्रतिदिन जारी रखें। उन्होंने कहा कि पीडीएस दुकानों के लिए राशन वितरण की कार्यवाही शनिवार और रविवार को भी संचालित कर पीडीएस दुकान से बारदानें को संग्रहित कर संग्रहरण केंद्र में जमा करवाने के लिए नोडल अधिकारी बनाने के निर्देश दिए। नोडल अधिकारी का दायित्व होगा कि सभी उपार्जन केंद्रों में बारदानों की उपलब्धता सुनिश्चित करें। दिसम्बर माह राशन वितरण के बारदाना का कलेक्शन दो दिन में शत् प्रतिशत किया जाए और जनवरी माह के पीडीएस राशन वितरण 80 प्रतिशत करवाकर बारदाना संग्रह हेतु मुनादि कराना सुनिश्चित करें।

बंसल ने निर्देश देते हुए कहा कि जिन उपार्जन केंद्रों में बफर लिमिट से अधिक धान खरीदी की गई या जगह की कमी वाले केंद्रों से धान उठाव की कार्रवाई मिलर्स के माध्यम से जल्द करवाया जाए। वन अधिकार पट्टाधारी किसानों को भी धान, उपार्जन केंद्रों में लाने के लिए प्रोत्साहित करें। साथ ही किसानों को निर्धारित रकबा से कम धान उपार्जन केंद्र में बेचने के बाद बचे हुए रकबा का समर्पण के लिए प्रोत्साहित करें। किसानों की सहुलियत हेतु बारदाना व्यापारियों से बारदानें की दर कम करवाने के भी निर्देश दिए।

Baski Thakur

बस्तर प्रवक्ता समाचार पत्र के प्रधान संपादक हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *