निक्कमापन और भ्रष्टाचार की भेंट चढ़ा नगर सरकार का एक वर्ष

बेतरतीब निर्माण से जनता बदहाल
भ्रष्ट नेता और अधिकारियों ने जनहित में नहीं स्वहित में किया कार्य
निक्कमापन और भ्रष्टाचार की भेंट चढ़ा नगर सरकार का एक वर्ष

जगदलपुर निगम की लापरवाही से जनता हलाकान धूल और सकरीकरण के खिलाफ भाजपा पार्षदों ने दिया धरना

आज भाजपा पार्षददल द्वारा बेतरतीब निर्माण,सकरीकरण एवं धूल धूसरित शहर के विरूद्ध धरना का कार्यक्रम गीदम रोड़ गुरूगोविंद सिंह चैक में किया गया। इस धरना में भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश महामंत्री एवं पूर्व महापौर किरण देव ने कहा कि जो शहर अपने सुंदर गठन के लिए जाना जाता था आज वह अपनी पहचान तलाश रहा है। बेतरतीब निर्माण से गीदम रोड़ के निवासी एक वर्ष से कोरोना काल में और भी अधिक दिक्कतों का सामना कर रहे है, परंतु विभागों के समन्वय में कमी और योजना में स्वलाभ के कारण जनता को लाभ मिलने के बजाय नुकसान झेलना पड़ रहा है।
भाजपा प्रदेश प्रवक्ता एवं पूर्व मंत्री केदार कश्यप ने कहा कि झूठे वादों पर आयी कांग्रेस की सरकार शराब माफिया, रेत माफिया, भू माफिया, जमीन माफिया, माइनिंग माफिया, परिवहन माफिया को शरण देने वाली सरकार बन कर रह गयी है। दो वर्ष में कांग्रेस ने जनता के हित में रोका-झेका, नरवा-गरवा घुरवा बाड़ी, गौधन न्याय योजना के नाम से जनता का नहीं बल्कि अपने कार्यकर्ताओं का भरण पोषण कर रही है।
जिलाध्यक्ष रूपसिंह मण्डावी ने कहा कि पुराने काम को अपना बताकर उसको फिर से लोकार्पण करने की राजनीति चरम पर है। सरकार के नुमाइंदों को शहर की चिंता करना चाहिए उसे छोड़कर वह अपने विज्ञापन की चिंता कर रहे है और पुराने काम के नामपट्टिाकाओं में अपना नाम लिखवा रहे हैं।
पूर्व विधायक संतोष बाफना जी ने कहा कि ई-लाइब्रेरी पूर्व में लोकार्पित हो चुकी है, परंतु वहां कुछ कार्य करके फिर से लोकार्पण कर स्ववाहवाही लूटी जा रही है। इसी प्रकार दंतेश्वरी मंदिर से लेकर एनएमडीसी रेस्ट हाउस तक तथा अग्रसेन चैक से धरमपुरा तक व कोर्ट चैक से बोधघाट चैक तक का कार्य पूर्व से स्वीकृत है परंतु इसमें भी नामकरण की ओंछी राजनीति की जा रहीं है। डाॅ0 श्यामाप्रसाद मुखर्जी भवन पूर्व से जनता के लिए उपलब्ध था उसमें कुछ कार्य कर पुनः लोकार्पित कर श्रेय लेने की राजनीति की जा रही है।
वरिष्ठ नेता श्रीनिवास मिश्रा जी ने कहा कि दो वर्ष का कांग्रेस का शासन लोगों के लिए मजबूरी बन गया है, झूठ बोलकर सत्ता में आयी यह सरकार जनता का नहीं बल्कि अपनी जब भरने में लगी है। जहां पर नाली है वहीं बार-बार उखाड़ कर फिर नाली बना दी जाती है। इस प्रकार जनता के पैसे का दुरूपयोग हो रहा है।
धरना आंदोलन का नेतृत्व कर रहे नेताप्रतिपक्ष संजय पाण्डेय ने कहा नगरीय नियोजन की जिम्मेदारी पूरी तरह नगर सरकार की है। विभागों की आवश्यक तालमेल की कमी के कारण प्रयोग का अनूठा उदाहरण गीदम रोड़ में देखने को मिल रहा है। अन्य शहरों में विकास या सौंदर्यीकरण के नाम पर चैड़ीकरण किया जाता है परंतु गीदम रोड़ में कुछ वर्ष पूर्व चैड़ीकरण के लिए जो तैयारी की गयी थी उसे पाटकर 17 मीटर की रोड़ 13 मीटर में बदल दी गयी, इससे जनता का हित नहीं अहित हो रहा है। जनता के पैसे की लूट मची हुयी है। प्रगति पथ जनता के लिए नहीं, बल्कि भ्रष्ट नेता और भ्रष्ट अधिकारियों के प्रगति का रास्ता बन गया है। चमचमाती गाड़ी और रंग-बिरंगे चश्में से महापौर को धूल धूसरित शहर दिखाई नहीं पड़ता है।
नगर मण्डल के अध्यक्ष सुरेश गुप्ता ने कहा कि प्रगतिपथ निर्माण में गुरूगोविंद सिंह चैक से ममता विडियों तक 17 मी. डेªन टू ड्रेन को 13 मी. डेªन टू ड्रेन बनाया जा रहा है इस सकरीकरण से भविष्य में शहर की जनता को होने वाले लाभ से महापौर, स्थानीय विधायक और कांग्रेस के समस्त जिम्मेदार जनप्रतिनिधि शहर और क्षेत्र की जनता को अवगत कराये। इसी तरह अमृत योजना की पाईप के ऊपर नाली बनायी गयी है। भविष्य में पाईप लाईन का संधारण कौन सी टैक्नोलाॅजी से बिना नाली को क्षति पहुंचाये की जायेगी इसकी भी जानकारी शहर की जनता को इन नेताओं को देना चाहिए।
इस संबंध में पार्षददल सोमवार को एक ज्ञापन महापौर, जिला प्रशासन और आयुक्त नगर निगम को सौंपेगा और बेतरतीब निर्माण कार्य, सकरीकरण और धूल से निजात पाने यथा संभव निर्माण कार्य पूर्ण कराने की मांग करेगा। अगर नगरीय सरकार के द्वारा ठोस कदम नहीं उठाया गया तो भाजपा पार्षददल अपने आंदोलन को और विस्तृत करेगा।
इस धरना में विद्याशरण तिवारी, श्रीधर ओझा, दीप्ति पाण्डेय, लक्ष्मी कश्यप, श्री राजेन्द्र बाजपेयी, आर्येन्द्र आर्य, संग्राम सिंह राणा, रजनीश पानीग्राही, बी. जयराम, लक्ष्मण झा, जयराम दास आदि ने संबोधित किया। आंदोलन को सफल बनाने, पार्षद श्री निर्मल पानीग्राही, दिगम्बर राव, धनसिंह नायक, त्रिवेणी रंधारी, सुश्री भारती श्रीवास्तव, रीना घोष, आलोक अवस्थी, महेन्द्र पटेल, शंभू नाग,मोतीराम नाग, अशोक यादव, राकेश तिवारी, महेश यदु, सुधीर शर्मा, मायारानी बढ़ई, प्रमिला कपूर, सुधा मिश्रा, मनीष पारख, शैलेन्द्र भदौरिया, अविनाश श्रीवास्तव, भुवनेश्वर धु्रव, विक्रम यादव, पंकज आचार्य, बृजेश भदौरिया, सरबजीत सिंह सूरी, ओमप्रकाश पासवान, शशिनाथ पाठक, रिंकू शर्मा, श्रीपाल जैन, अशोक नवतानी, रवि कश्यप, कौशिक शुक्ला, गोदावरी साहू, गीता नाग, कृष्णा राय, अभय दीक्षित, संतोष बाजपेयी, दीपक त्रिवेदी, नवीन ठाकुर, कृष्ण निषाद, विकास चाण्डक, देवेश चाण्डक, अभिषेक तिवारी, अनिमेश चैहान, मनोज पटेल, रिंकू पाण्डे, गणेश काले, शिरिस मिश्रा, सुरेश कश्यप, किरण शुक्ला, विनय राजू, आनंद झा, प्रकाश रावल, अमर झा, प्रकाश झा, आलेख तिवारी, आशु आचार्य, बिरू शर्मा, वेणु पानीग्राही, वैभव पाण्डेय, गुरप्रीत सिंह, वरूण पाढ़ी, रामकुमार मण्डावी, संतोष त्रिपाठी, मनोज ठाकुर, चिराग महावर, बंटू पाण्डेय, विनीत शुक्ला, विनय झा, किरण सेन, शांति विश्वास, अनामिका हलधर, राजेश दास, जयशंकर सोरी, रंजीत पाण्डे, योगेश मिश्रा आदि सैकड़ो कार्यकर्तागण उपस्थित थे।

Baski Thakur

बस्तर प्रवक्ता समाचार पत्र के प्रधान संपादक हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *