ऑटो रिक्शा,टैक्सी,भाड़ा उठाने वाला अगर सामान ले जाए तो क्या करें

ऑटो रिक्शा,टैक्सी,भाड़ा उठाने वाला अगर सामान ले जाए तो क्या करें

दोस्तो हमारे देश की 70% जनसंख्या ग्रामीण क्षेत्रों में रहती है, और बहुत से लोग जब शहरों या अन्य स्थानों पर जाते हैं तो उनको प्राइवेट टैक्सी का ऑटो रिक्शा या भाड़ा उठाने के लि ए किसी व्यक्ति की आवश्यकता होती हैं। ऐसे में अगर कोई  वाहक उनकी चल संपत्ति को लेकर भाग जाता है ,आपको आई पी सी की  धारा 407  के तहत प्रथम सूचना रिपोर्ट दर्ज करानी होती है।

भारतीय दंड संहिता की धारा 407 के अनुसार
अगर कोई व्यक्ति एक स्थान से दूसरे स्थान जाने के लिए निम्न व्यक्ति से संविदा करता है:- कोई वाहक, घाटवाल, भाण्डागरिक तब ऐसा व्यक्ति बेईमानीपूर्वक संपत्ति को वस्तु को लेकर भाग जाता है तब वह व्यक्ति धारा 407 के अंतर्गत दोषी होगा।
1. वाहक:- वह व्यक्ति जो अन्य व्यक्ति के माल को एक जगह से दूसरी जगह ले जाने का काम करता है। (रेलवे स्टेशन के कुली भी आते हैं इसी में)
2.घाटवाल:- वह व्यक्ति जो जल-मार्ग से वस्तुओं को लाने ले जाने का काम करता है।
3.भाण्डागरिक:- वह व्यक्ति हो किसी गोदाम या भंडारगृह में काम करता हो।
नोट:- लेकिन वस्तु अधिनियम 1955 या किसी कंपनी द्वारा भंडारण के लिए नियुक्त व्यक्ति के प्रति यह धारा लागू नहीं होती है।

*भारतीय दण्ड संहिता,1860 की धारा 407 के अंतर्गत दण्ड का प्रावधान*

इस धारा के अपराध किसी भी प्रकार से समझौता योग्य नहीं है, यह संज्ञेय एवं अजमानतीय अपराध है। इनकी सुनवाई का अधिकार प्रथम श्रेणी के मजिस्ट्रेट को हैं।
*सजा
इस अपराध के लिए सात वर्ष की कारावास एवं जुर्माने से दण्डित किया जा सकता है।
साभार  श्री बी. आर. अहिरवार

सावधान रहें सुरक्षित रहें।

बालोद पुलिस

Baski Thakur

बस्तर प्रवक्ता समाचार पत्र के प्रधान संपादक हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *