महिला एवं बालिकाओं के विरुद्ध अपराधों में सम्मिलित आपराधिक तत्वों के विरूद्ध कड़ी कार्यवाही

महिला एवं बालिकाओं के विरुद्ध अपराधों में सम्मिलित आपराधिक तत्वों के विरूद्ध कड़ी कार्यवाही करने जिलों में एक नोडल अधिकारी नियुक्त की जाकर महिला एवं बालिकाओं के विरूद्ध दर्ज अपराधों की त्वरित विवेचना एवं कार्यवाही की समीक्षा की जावेगी। पुलिस महानिरीक्षक, बस्तर रेंज श्री सुन्दरराज पी. द्वारा बस्तर संभाग के समस्त पुलिस अधीक्षकों की दिया गया निर्देश।

पुलिस महानिरीक्षक, बस्तर रेंज श्री सुन्दरराज पी. द्वारा बस्तर संभाग के समस्त पुलिस अधीक्षकों को पत्र जारी करते हुये पींक रिपोर्ट कार्ड (Pink Report Card) की व्यवस्था बनाई गई है

दण्ड प्रकिया संहिता, 1973 की धारा 39 एवं 40 के तहत् यदि क्षेत्र के सरपंच/पंच/पटेल/कोटवार द्वारा इलाके में घटित घटना की सूचना समय पर मजिस्ट्रेट या पुलिस थाना को सूचना देने के लिए बाध्य है।यदि किसी व्यक्तियों द्वारा जिन्हें संज्ञेय अपराध या अप्राकृतिक घटना की सूचना नहीं देने पर धारा 176 एवं 202 भादवि के तहत कानूनी कार्यवाही की जावेगी।

बस्तर संभाग अंतर्गत सभी जिलों में महिला व बालिकाओं की सुरक्षा हेतु सार्वजनिक स्थलों में पेट्रोलिंग एवं गस्त बढ़ाने के साथ-साथ सभी संबंधितों को कानूनी प्रावधानों की जानकारी देने हेतु जागरूकता अभियान भी संचालित की जावेगी।

बस्तर संभाग अंतर्गत नक्सल समस्या के उन्मूलन के साथ-साथ अपराधों की विवेचना तथा अपराधों की रोकथाम पुलिस की प्राथमिकता है। विशेष तौर पर महिला एवं बालिकाओं के विरूद्ध घटित अपराधों में आरोपियों के विरूद्ध त्वरित कार्यवाही किया जाना अतिआवश्यक है। इन अपराधों में सम्मिलित आपराधिक तत्वों के विरूद्ध कड़ी कार्यवाही किये जाने से घटना की पुनरावृत्ति रोका जा सकता है। इस कार्य हेतु बस्तर संभाग के प्रत्येक जिले में एक-एक राजपत्रित अधिकारियों को नोडल अधिकारी नियुक्त की जाकर महिला एवं बालिकाओं के विरूद्ध दर्ज अपराधों की त्वरित विवेचना एवं कार्यवाही की समीक्षा की जावेगी।

महिला एवं बालिकाओं के विरूद्ध घटित अपराधों की निरंतर समीक्षा के लिए संभाग के समस्त पुलिस अधीक्षकों को पुलिस महानिरीक्षक, बस्तर रेंज द्वारा निर्देशित किया गया है। पुलिस महानिरीक्षक, बस्तर रेंज श्री सुन्दरराज पी. द्वारा बस्तर संभाग के समस्त पुलिस अधीक्षकों को पत्र जारी करते हुये पींक रिपोर्ट कार्ड (Pink Report Card) की व्यवस्था बनाई गई है। इस प्रक्रिया के तहत् पुलिस अधीक्षकों द्वारा जिले में महिला एवं बालिकाओं के विरूद्ध घटित प्रत्येक अपराधों को 12 बिन्दु प्रपत्र के तहत प्रतिदिन समीक्षा की जाकर प्रकरण के आरोपियों के विरूद्ध कड़ी कार्यवाही की जावेगी।

दण्ड प्रक्रिया संहिता, 1973 की धारा 39, 40 के तहत किसी भी नगर एवं ग्रामीण क्षेत्र की सरपंच, पंच, कोटवार, ग्राम पटेल व परम्परागत रूप से गांव सूचना देने के लिए बाध्य है। यदि किसी व्यक्तियों द्वारा जिन्हें संज्ञेय अपराध या अप्राकृतिक घटना की सूचना क्षेत्र में या आस-पास कोई भी संज्ञेय अपराध या अप्राकृतिक घटना होने पर वह निकटम क्षेत्र के मजिस्ट्रेट या पुलिस थाना को सूचना देने के लिए बाध्य है। यदि किसी व्यक्तियों द्वारा जिन्हें संज्ञेय अपराध या अप्राकृतिक घटना की सूचना होने के बाद भी हुई घटना को छुपाते हुये सूचना क्षेत्र के मजिस्ट्रेट या पुलिस थाना को नही देता है तथा क्षेत्र के जिम्मेदार व्यक्तियों द्वारा भी घटना की सूचना नहीं देने पर संबंधित व्यक्तियों पर धारा 176, 202 भादवि के तहत् अभियोग चलाने का प्रावधान है।

बस्तर संभाग के अंतर्गत सभी जिलों में महिला व बालिकाओं की सुरक्षा हेतु सार्वजनिक स्थलों में पेट्रोलिंग एवं गश्त बढ़ाने के साथ-साथ सभी संबंधितों को कानूनी प्रावधानों की जानकारी देने हेतु जागरूकता अभियान भी संचालित की जावेगी।

Baski Thakur

बस्तर प्रवक्ता समाचार पत्र के प्रधान संपादक हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *